गर्मी में बढ़ जाती है पैरों से बदबू की समस्या, बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स

डॉक्टरों के मुताबिक जिस व्यक्ति को पसीना आता है, वह पसीना न आने वालों के मुकाबले अधिक सेहतमंद माना जाता है. दरअसल पसीने के ज़रिए शरीर से अतिरिक्त गर्मी निकलती रहती है. साथ ही बॉडी के टॉक्सिन भी पसीने के साथ बाहर आते हैं. वैसे तो पसीना आना अच्छा है, लेकिन यह तब समस्या साबित होता है, जब उसकी बदबू लोगों को परेशान करे.

गर्मी के मौसम में पसीने और इसकी बदबू की समस्या बढ़ जाती है. जिन लोगों के लिए जूते पहनना मजबूरी है, जब वे किसी भी जगह अपने जूते और मोज़े निकालते हैं, तो पसीने की बदबू कई बार उस जगह पर बैठे सभी लोगों को परेशान कर देता है. आज हम आपको बताते हैं पसीने की बदबू से बचने के ऐसे टिप्स, जिन्हें अपनाकर आप पैरों से आ रही बदबूदार महक से बच सकेंगे.

ये भी पढ़ें: बनी रहेगी ज्वेलरी की चमक, सोने के गहनों को घर पर साफ करने के आसान टिप्स

क्यों आता है पसीना?
हेल्थशॉट्स के मुताबिक पसीना हमारी बॉडी के लिए कूलिंग सिस्टम की तरह काम करता है. शरीर के जिस-जिस हिस्से में पसीना आता है, वहां बदबू की समस्या अधिक होती है. हालांकि कई बार पसीने आने की वजह मेडिकल कंडीशन भी होती है. अगर आप पैरों की बदबू से परेशान रहते हैं, तो अपनाएं ये घरेलू उपाय.

पसीने की बदबू से कैसे निपटे

– जब भी कहीं से आए, जूते उतारकर उसमें अंदर थोड़ा सा बेकिंग सोडा छिड़क दें. सोडा जूते में मौजूद – नमी को सोख लेगा और उसकी बदबू भी दूर करेगा.
– नमी वाली जगह में बैक्टीरिया पनपने की आशंका सबसे ज्यादा रहती है. पैरों को सूखा रखने की कोशिश करें. अगर ज़रूरी न हो, तो जूते न पहनें.
– पैरों की साफ-सफाई का ख़ास ध्यान रखें. मोज़े हर दिन बदलें. दिन भर में दो से तीन बार पैर धोएं. मोज़े पहनने के पहले ध्यान दें कि पैर अच्छी तरह सूख गया हो.
– अगर पैरों से बहुत पसीना आता है और जूते पहनने की मजबूरी है, तो अल्कोहल वाइप्स का इस्तेमाल करें. इससे पैरों के पोर्स बंद होते हैं.
– गैर-ज़रूरी चप्पल या जूते न पहनें. जब आप नंगे पैर चलते हैं, तो हवा के संपर्क में आने से फंगस खत्म होते हैं.
– पैरों में पसीने की समस्या होती है, तो  कॉटन सॉक्स पहनें. यह पसीना और जूते की नमी सोखते हुए पैरों को पसीने से मुक्त रखता है.
– गर्मियों में खासतौर पर प्लास्टिक से बने फुटवियर पहनने से बचें. यह प्राकृतिक चीज़ों से बनकर तैयार नहीं होता, इसलिए जूते के अंदर की हवा बाहर नहीं निकल पाती और बाहर की हवा अंदर नहीं जा पाती.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

Atul Tiwari

Atul Tiwari

Leave a Reply

Your email address will not be published.