न्यूट्रिएंट्स से भरपूर है तरबूज! जानिए भारत में इसकी कौन-कौन सी किस्में उगाई जाती हैं

आम के बाद अगर गर्मी के मौसम में भारतीयों को किसी चीज का स्वाद जो बेहद पसंद है, वो है तरबूज (Watermelon) . तरबूज न केवल बेहद सेहत के फायदेमंद है, बल्कि ये आपकी प्यास बुझाने के लिए आदर्श फल भी है. पानी की मात्रा अधिक होने के अलावा, तरबूज पोषक तत्वों, एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन ए और सी से भरपूर होते हैं. लेकिन, आप जानते हैं कि हमारे देश में तरबूज की लगभग 25 व्यावसायिक किस्में उगाई जाती हैं.

जी हां, आपने सही सुना. तरबूज की खेती करने वाले कुछ राज्य उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, ओडिशा, गुजरात, पंजाब, हरियाणा, असम, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु हैं. आइए भारत में उगाए जाने वाले तरबूजों की कुछ खास किस्मों पर एक नज़र डालें.

तरबूज अर्का मुथु (Arka Muthu)
जल्दी पकने वाले इस तरबूज (अर्का मुथु) की बुनियादी लंबाई कम होती है और आमतौर पर ये 75-80 दिनों में पक जाता है. तरबूज की ये किस्म अंडाकार और गोल दोनों आकार में आती है और इसमें गहरे लाल रंग के साथ गहरे हरे रंग का धारीदार छिलका होता है. औसतन, तरबूज अर्का मुथु का वजन लगभग 2.5 से 3 किलोग्राम होता है, जिसमें चीनी की मात्रा 12 से 14 ब्रिक्स तक होती है. इस तरह के तरबूज फल की उपज 50 से 60 टन/हेक्टेयर में होती है. अर्का मुथु सटीक खेती के लिए और उच्च घनत्व वाले रोपण (high-density planting) के लिए भी काफी उपयुक्त है.

यह भी पढ़ें- 
दिल को स्वस्थ रखने के लिए खाएं ये 5 तरह के नट्स, पौष्टिक तत्वों से हैं भरपूर

तरबूज अर्का आकाशी (Arka Akash)
तरबूज अर्का आकाश एक उच्च उपज देने वाली किस्म है, जो अंडाकार खरबूजे का उत्पादन करती है. ये हाईब्रिड किस्म आमतौर पर गोल से अंडाकार आकार की होती है, जिसका छिलका गहरे हरे रंग की धारियों के साथ हल्के हरे रंग का होता है और इसका गुदा गहरे लाल रंग का होता है जो आमतौर पर 90 से 95 दिनों में पक जाता है. इसकी उपज 75 से 80 टन/हेक्टेयर में होती है. और इसमें शुगर कंटेंट 12 ब्रिक्स है.

तरबूज अर्का ऐश्वर्या (Arka Aishwarya)
इस प्रकार का F1 हाईब्रिड तरबूज एक उच्च उपज देने वाली किस्म है और ये आकार में तिरछा होता है. तरबूज अर्का ऐश्वर्या में हाई शुगर कंटेंट होता है जो 12 से 13 ब्रिक्स तक जाता है. इनका आकार लम्बा होता है और इनका गुदा लाल होता है, इस तरबूज की उपज 80 टन/हेक्टेयर में होती है.

यह भी पढ़ें-
वजन घटाने के मामले में बहुत ज्यादा ओवररेटेड होते हैं ये 5 ड्रिंक्स

तरबूज अर्का माणिक (Arka Manik)
4-6 किलोग्राम वजन वाले तरबूज अर्का माणिक तरबूज में गहरे हरे रंग की धारियों वाला हल्का हरा छिलका होता है और इसका आकार अंडाकार होता है. इसका गुदा गहरे लाल रंग का होता है और ये 60 टन/हेक्टेयर में पैदा होता है. अर्का माणिक में चीनी की मात्रा भी अधिक होती है जो 12 से 15 ब्रिक्स के बीच होती है.

Tags: Fruits, Health, Health News, Lifestyle

Atul Tiwari

Atul Tiwari

Leave a Reply

Your email address will not be published.