राम मंदिर निर्माण के लिए दान में मिले 22 करोड़ के चेक बाउंस, जानें क्यों?

Image Source : FILE PHOTO
Ayodhya Temple

Highlights

  • दान में मिली रकम के 15000 चेक हुए बाउंस
  • अब तक दान में 3400 करोड़ रुपये मिले हैं
  • 123 लोगों ने 25-50 लाख रुपये तक दान किए

Ayodhya Temple: उत्तर प्रदेश के अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की ‘निधि समर्पण योजना’ के तहत दान देने का सिलसिला जारी है, लेकिन इसी दौरान 22 करोड़ रुपये से ज्यादा के 15000 चेक बाउंस भी हुए हैं। विश्व हिंदू परिषद की जिला इकाइयों की तरफ से जारी रिपोर्ट के मुताबिक, राम मंदिर ट्रस्ट को दान के रुपये में अब तक 3400 करोड़ रुपये की धनराशि प्राप्त हो चुकी है। 

इसी रिपोर्ट में दान के धन से जुड़े बैंक चेकों के बाउंस होने के बारे में भी सूचना दी गई है, लेकिन उनके कारणों का कोई जिक्र नहीं किया गया है। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के कार्यालय प्रबंधक प्रकाश गुप्ता ने सोमवार को बताया कि बाउंस हुए चकों के बारे में अलग से एक रिपोर्ट तैयार की जा रही है, ताकि यह पता लगाया जा सके कि आखिर कौन-कौन से चेक बाउंस हुए हैं और उनके अनादृत होने के क्या कारण रहे। 

‘बाउंस हुए चेकों को बैंक के सामने दोबारा प्रस्तुत किया जाएगा’

उन्होंने कहा कि अनेक चेक वर्तनी की गलती या हस्ताक्षर मेल नहीं खाने अथवा अन्य तकनीकी कारणों से बाउंस हुए होंगे, छोटी-छोटी गलतियों की वजह से बाउंस हुए चेकों को बैंक के सामने दोबारा प्रस्तुत किया जाएगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि अयोध्या में रहने वाले दानदाताओं के चेक सबसे ज्यादा संख्या में बाउंस हुए हैं। अकेले अयोध्या जिले में दो हजार से ज्यादा चेक बाउंस हुए हैं।

‘428 लोगों ने पांच से 10 लाख रुपये तक का दान दिया है’

गुप्ता ने बताया कि राम मंदिर निर्माण के लिए एक लाख से पांच लाख रुपये तक दान करने वाले लोगों की संख्या 31663 है। इसी तरह 1428 लोगों ने पांच से 10 लाख रुपये तक का दान किया है। इसके अलावा 950 लोगों ने 10 से 25 लाख रुपये तक का दान दिया है। वहीं, 123 लोग ऐसे हैं जिन्होंने 25 से 50 लाख रुपये तक दान किए हैं। इसके अलावा 127 लोगों ने 50 लाख से लेकर एक करोड़ रुपये दान किए हैं। साथ ही 74 लोग ऐसे हैं जिन्होंने एक करोड़ रुपये से अधिक की धनराशि दान की है।

Atul Tiwari

Atul Tiwari

Leave a Reply

Your email address will not be published.