Free Podcast Audio in Hindi | Online Podcast Hindi News List | Podcast Music

Free Podcast Audio in Hindi | Online Podcast Hindi News List | Podcast Music

सप्ताह भर की क्रिकेट गतिविधियों को समेटे इस पॉडकास्ट के साथ स्वीकार कीजिए संजय बैनर्जी का नमस्कार. सुनो दिल से. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टी-20 सीरीज बराबरी पर समाप्त होने के बाद भारतीय टीम अब इंग्लैंड में है. भारत की ही एक दूसरी टीम संक्षिप्त दौरे पर आयरलैंड में भी है. जाहिर है एक साथ दो टीमों के विदेशी धरती पर खेलना न सिर्फ टीम इंडिया की मजबूती को दर्शाता है, बल्कि कई उभरते हुए खिलाड़ियों के लिए भी अपनी प्रतिभा साबित करने का यह एक बेहतर मौका होगा. उधर, भारत की महिला टीम भी फिलहाल श्रीलंका के दौरे पर है. यानी, आईपीएल के बाद अब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मे भारत के व्यस्त होने का सिलसिला शुरू हो चुका है.


इंग्लैंड में अगले महीने इकलौता टेस्ट खेला जाना है. यह वही टेस्ट है जिसे भारतीय खिलाड़ियों ने पिछले साल कोरोना के कारण खेलने से इनकार कर दिया था. भारत के पास मौका होगा कि वह इस टेस्ट को जीत कर या ड्रॉ कर पांच मैचों की सीरीज अपने नाम कर लेगा. वहीं, इंग्लैंड अगर मुकाबला जीत जाता है, तो वह सीरीज बराबरी पर समाप्त करने में सफल हो जाएगा.

टेस्ट से पहले भारतीय टीम लीस्टरशायर के खिलाफ चार दिन के अभ्यास मैच में व्यस्त है. आज दूसरा दिन है. मजे की बात है कि इस मैच में भारत के चार खिलाड़ी-चेतेश्वर पुजारा, ऋषभ पंत, जसप्रीत बुमराह और प्रसिद्ध कृष्णा लीसेस्टरशायर काउंटी टीम की ओर से भारतीय टीम के खिलाफ ही खेल रहे हैं. चूंकि, यह प्रथम श्रेणी मैच नहीं है, इसलिए अभ्यास के तौर पर ऐसा पहले भी होता रहा है. मकसद ज्यादा से ज्यादा भारतीय खिलाड़ियों को अभ्यास का मौका देना है. पिछले साल भारतीय टीम जब इंग्लैंड में थी, तब टेस्ट से पहले कोई अभ्यास मैच नहीं था और इसको लेकर काफी कुछ कहा सुना गया था.

लीस्टरशायर के खिलाफ विकेटकीपर श्रीकर भरत ने अब तक नाबाद 70 रन बनाए हैं. भारत ने पहले दिन बारिश के कारण खेल रोके जाने तक आठ विकेट पर 246 रन बनाए थे. लेकिन, थोड़ी निराशा यह रही कि फर्स्ट क्लास का एक भी मैच नहीं खेलने वाले 21 साल के मीडियम पेसर रोमान वाकर ने भारत ने टॉप आर्डर के बल्लेबाजों-कप्तान रोहित शर्मा, हनुमा विहारी, विराट कोहली, रविंद्र जडेजा और शार्दुल ठाकुर को अपना शिकार बनाया.

वैसे टेस्ट से पहले भारतीय टीम को एक साथ दो झटके लगे. आर. अश्विन कोविड संक्रमित होने के कारण टीम के साथ पहले नहीं जा सके, लेकिन अब टीम के साथ जुड़ गए हैं. जबकि लोकेश राहुल चोटिल होने के कारण टीम से बाहर हो चुके हैं. चेतेश्वर पुजारा और हनुमा विहारी जैसे बल्लेबाजों को फिर से टेस्ट टीम में वापस आने और अपने को स्थापित करने के लिए बेहतर फॉर्म दिखाने की जरूरत है, क्योंकि अब विकल्पों की भरमार है.

भारत की दूसरी टीम आयरलैंड में है, जिसे 26 और 28 जून को दो टी-20 इंटरनेशनल मैचों में हिस्सा लेना है. भारतीय टीम को इस साल होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप के लिए भी तैयारी करनी है. यह छोटी सीरीज इसी का हिस्सा है. आईपीएल में बिना किसी पूर्व अनुभव के कप्तान के तौर पर गुजरात टाइटंस को चैंपियन बनाने वाले हार्दिक पंड्या आयरलैंड दौरे पर आधिकारिक तौर पर भारतीय टीम के कप्तान हैं. उनको ऋषभ पंत पर तरजीह दी गई है. दिनेश कार्तिक और उमरान मलिक को भी आईपीएल में शानदार प्रदर्शन करने का उपहार मिला है. एक तरफ जहां कार्तिक ने बढ़ती उम्र के बावजूद अपनी ’फिनिशिंग टच’ से सबको प्रभावित किया है. वहीं, उमरान मलिक ने प्रतिभावान होने का सबूत दिया है. यह अलग बात है कि उमरान मलिक को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेलने का मौका नहीं मिला, लेकिन आयरलैंड में उन्हें शामिल किए जाने की पूरी संभावना है.

आयरलैंड के खिलाफ परसो होने वाले पहले मैच में राहुल त्रिपाठी, ईशान किशन, अर्शदीप सिंह और आवेश खान जैसे युवा खिलाड़ियों पर भारतीय टीम का दारोमदार होगा. आयरलैंड और इंग्लैंड दौरे के बाद भारतीय टीम को अगले महीने वेस्टइंडीज दौरे पर भी जाना है, इसलिए इन सभी खिलाड़ियों के लिए यह जबर्दस्त मौका है, जिसे हर कोई भुनाना चाहेगा.

वैसे भारतीय टीम ने पिछले सप्ताह ही दक्षिण अफ्रीका के साथ पांच मैचों की टी-20 की होम सीरीज खेली. पहले दो मैचों में हार के बावजूद भारत ने बाद के दोनों मैचों में जीत हासिल कर सीरीज में बराबरी कर ली थी. सब कुछ बेंगलुरु में हुए पांचवें मैच पर टिका था, लेकिन बारिश ने सब गड़बड़ कर दिया और बिना किसी नतीजे के यह मैच समाप्त हुआ. ऋषभ पंत के लिए यह औपचारिक रूप से पहली सीरीज थी, जिसमें वह टीम इंडिया के कप्तान थे. भारतीय कोच राहुल द्रविड ने इस सीरीज के सभी मैचों में ‘सेम इलेवन’ को मैदान पर उतारा. शायद उन्होंने यह संदेश देने की कोशिश की है कि जिसे भी मौका मिलेगा, पूरा मिलेगा. आमतौर पर हर मैच में खिलाड़ियों को उनके प्रदर्शन के आधार पर बदलने की परंपरा रही है.

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज में ईशान किशन ने दो अर्धशतक समेत सबसे ज्यादा 206 रन बनाए. इसी तरह, गेंदबाजी में हर्षल पटेल अपनी प्रतिभा दिखाने में कामयाब रहे, जबकि भुवनेश्वर कुमार ने अनुभव का शानदार इस्तेमाल किया.

इधर, भारत की महिला टीम श्रीलंका दौरे पर है. जहां तीन टी-20 और इतने ही वनडे मैच होने हैं. वनडे वर्ल्ड कप के बाद भारतीय महिलाओं की यह पहली सीरीज है. कल पहला टी-20 मैच दाम्बुला में खेला गया, जिसे भारतीय महिलाओं ने 34 रन से जीत लिया. कप्तान हरमनप्रीत कौर ने टॉस जीतकर पहले खेलने का फैसला किया, जो बाद में सही साबित हुआ. भारत ने हालांकि केवल 138 रन बनाए, लेकिन राहत की बात यह रही कि विश्व कप में भारतीय टीम से बाहर रही जेमिमा रोड्रिग्स ने सबसे ज्यादा 36 रन बनाए. दूसरी विस्फोटक बैटर शेफाली वर्मा ने 31 और हरमनप्रीत कौर ने 22 रन का योगदान किया. वैसे असल पारी खेली दीप्ति शर्मा ने, जिन्होंने केवल आठ गेंदों पर तीन चौके की मदद से नंबर आठ पर खेलते हुए नाबाद 17 रन जोड़े. हालांकि श्रीलंका की जवाबी पारी में केवल 104 रन ही बने, लेकिन कविशा दिलहारी ने नाबाद 47 रन की पारी खेली. भारत के लिए राधा यादव को दो विकेट मिले.

भारत और श्रीलंका के बीच अब दूसरा टी-20 महिला मैच कल दाम्बुला में ही खेला जाएगा, जबकि 27 जून को तीसरा मैच होगा.

भारतीय महिला क्रिकेट की दो खिलाड़ी अब मैदान पर खेलती हुई नहीं दिखेंगी. मिताली राज के बाद रूमेली धर ने भी संन्यास ले लिया है. मिताली टेस्ट और वनडे में भारतीय टीम की कप्तान थी, यह जिम्मेदारी अब हरमनप्रीत के कंधे पर आ गई है. 38 साल की रूमेली धर ने 2005 के वर्ल्ड कप के फाइनल में भारतीय टीम को फाइनल में पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

और अंत में रणजी ट्रॉफी. जिसका फाइनल मुंबई और मध्य प्रदेश के बीच बेंगलुरू में खेला जा रहा है. पांच दिवसीय फाइनल का आज तीसरा दिन है. कल दूसरे दिन मुंबई की पहली पारी 374 रन पर समाप्त हुई थी. इसके जवाब में मध्य प्रदेश ने खेल समाप्त होने तक एक विकेट पर 123 रन बनाए थे. तब यश दुबे 44 और शुभम शर्मा 41 रन बनाकर क्रीज पर थे.

मुंबई की पहली पारी में सरफराज खान ने 134 रन की शतकीय पारी खेली और सीजन में अपने शानदार फॉर्म को बरकरार रखा. यह उनका सीजन का चौथा शतक है. सरफराज के अलावा यशस्वी जायसवाल ने 78 रन बनाए. मध्य प्रदेश की तरफ से गौरव यादव ने चार और अनुभव ने तीन विकेट लिए.

मुंबई के सामने रणजी ट्रॉफी 42वीं बार जीतने का शानदार मौका है. जबकि एक टीम के तौर पर मध्य प्रदेश पहली बार खिताब जीतने की कोशिश करेगा.

इससे पहले खेले गये सेमीफाइनल में मुंबई ने उत्तर प्रदेश के खिलाफ पहली पारी के आधार पर जीत हासिल की थी. तब मुंबई के लिए यशस्वी जायसवाल ने दोनों पारियों में शतक जमाया था. फिलहाल गेंदबाजी में 37 विकेट लेकर शम्स मुलानी टॉप पर हैं, लेकिन सेमीफाइनल में उनको कोई विकेट नहीं मिला था.

एक अन्य सेमीफाइनल मैच में मध्य प्रदेश ने बंगाल को 174 रन से हराया था. मध्य प्रदेश के लिए हिमांशु मंत्री ने 165 रन और रजत पाटीदार ने 79 रन की पारी खेली थी. जबकि बंगाल के लिए वहां के खेल मंत्री मनोज तिवारी ने शतक जमाया था. हार के बावजूद बंगाल के लिए शाहबाज अहमद ने आठ विकेट लेकर और शतक जमाकर शानदार आलराउंड प्रदर्शन किया था.

**

तो यह था, सप्ताह भर की क्रिकेट गतिविधियों पर आधारित पॉडकास्ट- सुनो दिल से. अगले हफ्ते तक संजय बैनर्जी को अनुमति दीजिए, नमस्कार.

Atul Tiwari

Atul Tiwari

Leave a Reply

Your email address will not be published.