News Details

  • Home -
  • News Details

क्या आपका पूजा कक्ष संगमरमर और ग्रेनाइट जैसे पत्थरों से बना है? यह एक बड़ा नुकसान हो सकता है
research

वास्तु शास्त्र में कल हमने बात की थी मुख्य द्वार के पास छोटे गेट के बारे में और आज हम बात करेंगे कर्ज से पूजा घर के संबंध के बारे में। जी हां, घर के लिए  मंदिर बनाने में कई प्रकार की सामग्रियों और शैलियों का उपयोग किया जाता है। जैसे कि लोग अपने घरों में मंदिर बनाने के लिए लकड़ी, संगमरमर, ग्रेनाइट आदि का उपयोग करते हैं। ऐसे में क्या इन चीजों का इस्तेमाल सही है। आचार्य इंदु प्रकाश से जानें। 

शास्त्र के अनुसार मंदिर का निर्माण ईशान कोण में करवाना सबसे अच्छा माना जाता है, लेकिन इस दिशा में मंदिर बनवाते समय एक बात का ध्यान रखना चाहिए कि पूजास्थल के नीचे पत्थर का स्लैब न लगवाएं।

आचार्य इंदु प्रकाश बताते हैं कि पूजास्थल के नीचे पत्थर का स्लैब न लगवाने से आप कर्ज के चंगुल में फंस सकते हैं। पत्थर की जगह आप लकड़ी की स्लैब या अलग से लकड़ी का पूरा मंदिर बनवा सकते हैं।