News Details

  • Home -
  • News Details

'Francophone': Shashi Tharoor awarded highest French civilian honour
research

Renowned Congress MP and former UN diplomat Shashi Tharoor was honored with France's highest civilian award, the 'Chevalier de la Legion d'honneur,' by Chairman of the French Senate Gerard Larcher.

Renowned Congress MP and former UN diplomat Shashi Tharoor has been honored with the prestigious 'Chevalier de la Legion d'honneur,' the highest civilian award bestowed by France. The accolade was conferred by Chairman of the French Senate Gerard Larcher at a ceremony held at the French Residence, acknowledging Tharoor's significant role in strengthening Indo-French relations and promoting international cooperation.

Tireless efforts acknowledged
In a statement issued by the French Embassy in India, Tharoor's tireless efforts to deepen Indo-French ties, along with his commitment to international peace and cooperation, were highlighted as the primary reasons for the honor. Tharoor's multifaceted persona, encompassing his roles as a diplomat, author, and statesman in India, was lauded for its remarkable contributions to global diplomacy.

Diverse career trajectory
Tharoor's illustrious career includes serving as Under-Secretary-General at the United Nations, Minister of State for External Affairs, and Human Resource Development in India. His extensive parliamentary experience, coupled with his literary prowess showcased in numerous books, some of which have been translated into French, further underscored his versatility and influence.

Appreciation from French senate chairman
Chairman Gerard Larcher hailed Tharoor as a true 'friend of France' and a 'Francophone' with a profound understanding of French culture. Larcher commended Tharoor's remarkable career trajectory and global perspective, emphasizing his invaluable contributions to India and the international community.

Humble gratitude and commitment
Expressing deep humility and gratitude, Tharoor remarked on the honor's significance in recognizing the deepening bonds between India and France. He pledged to continue fostering cultural exchange and diplomatic cooperation between the two nations, affirming his commitment to promoting further collaboration for the betterment of the global community.

Promoting mutual respect and collaboration
Tharoor reiterated the importance of mutual respect, admiration, and collaboration in nurturing the enduring friendship between India and France. He emphasized the shared values that underpin this unique association, expressing optimism about the future prospects of Franco-Indian relations.

 

 

प्रसिद्ध कांग्रेस सांसद और पूर्व संयुक्त राष्ट्र दूत शशि थरूर को फ्रांस के सर्वोच्च नागरिक सम्मान, 'चेवालियर डे ला लेजियों डी होनेर,' से सम्मानित किया गया, जिसे फ्रांसीसी सीनेट के अध्यक्ष जेरार्ड लार्चेर ने दिया।

प्रसिद्ध कांग्रेस सांसद और पूर्व संयुक्त राष्ट्र दूत शशि थरूर को महान 'चेवालियर डे ला लेजियों डी होनेर,' फ्रांस द्वारा दी जाने वाली सर्वोच्च नागरिक सम्मान से सम्मानित किया गया है। इस पुरस्कार को फ्रांसीसी सीनेट के अध्यक्ष जेरार्ड लार्चेर ने एक समारोह में फ्रांसीसी रिजिडेंस में देना हुआ, जिसमें थरूर के महत्वपूर्ण योगदान को भारत-फ्रांस संबंधों को मजबूत करने और अंतरराष्ट्रीय सहयोग को प्रोत्साहित करने के लिए मान्यता दी गई।

परिश्रमी प्रयासों की सराहना
भारत में फ्रांसीसी दूतावास द्वारा जारी एक बयान में, थरूर के अनथक परिश्रम को भारत-फ्रांसीसी संबंधों को गहराया जाने के लिए, साथ ही उनके अंतर्राष्ट्रीय शांति और सहयोग के प्रति समर्पण को मुख्य कारण के रूप में उजागर किया गया। थरूर की बहुपेक्षीय प्राणी, जिसमें उनकी भारत में एक दूत, लेखक, और राजनेता के रूप में भूमिकाओं को समाहित किया गया था, को वैश्विक राजनीति में अनमोल योगदान के रूप में सराहा गया।

विविध करियर की दिशा
थरूर के प्रसिद्ध करियर में संयुक्त राष्ट्रों में उप-महासचिव, भारत में विदेशी मामलों और मानव संसाधन विकास के राज्य मंत्री के रूप में सेवा शामिल है। उनका विस्तृत संसदीय अनुभव, उनकी विभिन्न पुस्तकों में प्रदर्शित साहित्यिक प्रतिभा, जिनमें से कुछ फ्रांसीसी में अनुवादित किए गए हैं, उनकी बहुमुखी और प्रभावकारी शक्ति को और अधिक प्रमुखता प्रदान करती है।

फ्रांसीसी सीनेट के अध्यक्ष से सराहना
अध्यक्ष जेरार्ड लार्चेर ने थरूर को एक सच्चे 'फ्रेंड ऑफ़ फ्रांस' और एक 'फ्रेंकोफोन' के रूप में सराहा, जिनका फ्रांसीसी संस्कृति के गहर

े समझ के साथ था। लार्चेर ने थरूर के अद्भुत करियर की दिशा और वैश्विक दृष्टिकोण की सराहना की, भारत और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के लिए उनके अमूल्य योगदान को जोर देते हुए।

नम्र आभार और समर्पण
गहरी विनम्रता और आभार व्यक्त करते हुए, थरूर ने संबंधों की गहराई को मानते हुए इस सम्मान का महत्व बताया। उन्होंने दो राष्ट्रों के बीच सांस्कृतिक विनिमय और राजनयिक सहयोग को और अधिक बढ़ावा देने का वादा किया, दोनों राष्ट्रों के बेहतरीनतम के लिए और अधिक सहयोग को बढ़ावा देने के लिए अपने समर्पण की पुष्टि की।

साझा सम्मान और सहयोग प्रोत्साहित करना
थरूर ने भारत और फ्रांस के बीच दीर्घकालिक मित्रता को पोषण देने के लिए साझी सम्मान, सराहना, और सहयोग की महत्वपूर्णता को दोहराया। उन्होंने इस अद्वितीय संबंध के आधार बनाने वाले साझे मूल्यों की महत्वाकांक्षा की, भारत-फ्रांसीसी संबंधों के भविष्य के संभावनाओं के बारे में आशा व्यक्त की।