News Details

  • Home -
  • News Details

Students to get option of appearing in 10th, 12th board exams twice from 2025-26, confirms Education
research

The Union Education Minister, Dharmendra Pradhan, has announced a significant change in the education system, stating that students will now have the option to appear for biannual board exams starting from the upcoming academic year. This move aims to provide ample time and opportunities for students to excel in their examinations.

Under this new initiative, students preparing for board exams will have the flexibility to take the exam twice a year, as confirmed by the Union Education Minister. He highlighted that one of the key objectives of the New National Education Policy 2020 is to alleviate the academic stress experienced by students.

The implementation of biannual board examinations aligns with the goals outlined in NEP 2020, which seeks to offer students multiple chances to showcase their academic capabilities. As per the new curriculum (NCF) introduced by the Education Ministry last year, board exams will be held at least twice annually to ensure students have sufficient time and opportunities to perform well. Additionally, students will have the option to retain their best scores, providing them with further flexibility.

During an event at the Pandit Deendayal Upadhyay Auditorium in Raipur, the Education Minister engaged with students to gauge their response to the new examination format. He encouraged them to strive for excellence in both examinations and emphasized that the Prime Minister's vision, as outlined in NEP, aims to deliver stress-free, high-quality education while preserving cultural roots and preparing students for the future. The Minister expressed confidence that realizing this vision will pave the way for India to achieve developed country status by 2047, citing a clear pathway to success.

Furthermore, during the launch of the PM SHRI (Prime Minister School for Rising India) scheme in Chhattisgarh, Minister Pradhan announced plans to upgrade 211 schools in the state in the scheme's initial phase. Utilizing the 'hub and spoke' model, each school will receive a budget of Rs. 2 crore to facilitate the necessary enhancements.

 

 

संघीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने घोषणा की है कि विद्यार्थियों को अगले साल से द्विवार्षिक कक्षा 10 और 12 बोर्ड परीक्षाओं में उपस्थित होने का विकल्प मिलेगा। इस पहल का उद्देश्य छात्रों को उनकी बोर्ड परीक्षाओं में अच्छे प्रदर्शन करने के लिए पर्याप्त समय और अवसर प्रदान करना है।

आगामी साल से बोर्ड परीक्षा में उपस्थित होने वाले छात्रों को परीक्षा में दो बार उपस्थित होने का मौका मिलेगा। संघीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने इस जानकारी की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि 2020 की नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के लक्ष्यों में से एक लक्ष्य छात्रों पर शैक्षिक तनाव को कम करना है।

पर्याप्त समय और अवसर प्रदान किया जाएगा
उन्होंने जोर दिया कि एनईपी 2020 छात्रों को शैक्षिक रूप से उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए द्विवार्षिक बोर्ड परीक्षाओं की योजना बनाता है। शिक्षा मंत्रालय ने पिछले अगस्त को घोषित किये गए नए पाठ्यक्रम (एनसीएफ) के अनुसार, छात्रों को अच्छी प्रदर्शन के लिए पर्याप्त समय और अवसर सुनिश्चित करने के लिए कम से कम दो बार परीक्षा आयोजित की जाएगी। उन्हें बेहतर स्कोर बनाए रखने का विकल्प भी मिलेगा।

देश को विकसित देश बनाने का सूत्र
रायपुर के पंडित दीनदयाल उपाध्याय अडिटोरियम में एक कार्यक्रम के दौरान, शिक्षा मंत्री ने छात्रों के साथ बातचीत की और उनके नए परीक्षा प्रारूप के प्रति उनकी प्रतिक्रिया का मूल्यांकन किया। उन्होंने उन्हें उनके उच्चतम क्षमता की दिशा में लक्ष्य बनाने की सलाह दी और कहा कि प्रधानमंत्री के द्वारा एनईपी के माध्यम से छात्रों को तनावमुक्त, गुणवत्ता युक्त शिक्षा प्रदान करने का उद्देश्य है, जबकि उन्हें संस्कृति से जुड़े रखते हुए और भविष्य के लिए तैयार किया जाता है। मंत्री के अनुसार, इस दृष्टिकोण के कार्यान्वयन से भारत 2047 तक विकसित देश बनेगा, और उन्हें यह मानना है कि इसे होने का एक सूत्र है।

2 करो

ड़ रुपए का खर्च स्कूलों पर होगा
छत्तीसगढ़ में पीएम श्री (प्रधानमंत्री स्कूल फॉर राइजिंग इंडिया) योजना के शुभारंभ के दौरान, प्रधान ने यह बताया कि राज्य में 211 स्कूलों को योजना के पहले चरण में अपग्रेड किया जाएगा, 'हब एंड स्पोक' मॉडल का उपयोग करके, प्रत्येक स्कूल के लिए 2 करोड़ रुपए का बजट लगाया जाएगा।

 

image source pti