Ranji Trophy: हिमांशु ने 3 साल में खेले सिर्फ 5 मैच, अब सेमीफाइनल में जड़ा शतक, रजत पाटीदार हुए फेल

Ranji Trophy: हिमांशु ने 3 साल में खेले सिर्फ 5 मैच, अब सेमीफाइनल में जड़ा शतक, रजत पाटीदार हुए फेल

अलुर. हिमांशु मंत्री (Himanshu Mantri) ने मंगलवार को अपने फर्स्ट क्लास करियर की सबसे बेस्ट पारी खेली. रणजी ट्रॉफी के एक सेमीफाइनल (Ranji Trophy Semi Final) में मप्र और बंगाल आमने-सामने हैं. टॉस जीतकर पहले खेलते हुए मप्र ने समाचार लिखे जाने तक 71 ओवर में 5 विकेट पर 230 रन बना लिए हैं. हिमांशु 114 रन बनाकर खेल रहे हैं. यह उनका फर्स्ट क्लास करियर का पहला शतक है. अब टीम को 300 के पार जाना है, तो हिमांशु को अंत तक टिके रहना होगा. हालांकि मप्र की शुरुआत अच्छी नहीं रही थी और टीम ने 100 रन के अंदर ही 4 विकेट खो दिए थे. इसके हिमांशु और अक्षत रघुवंशी ने टीम काे संभाला.

28 साल के हिमांशु मंत्री ने 2019 में फर्स्ट क्लास डेब्यू किया था. लेकिन वे इस दौरान सिर्फ 5 ही मैच खेल सके. यह उनका छठा मैच है. यह विकेटकीपर बल्लेबाज अब तक 7 पारियों में सिर्फ एक अर्धशतक लगा सका था. उन्होंने यह कारनामा क्वार्टर फाइनल में पंजाब के खिलाफ किया था. उन्होंने 89 रन बनाए थे. इस कारण यह मुकाबला 10 विकेट से जीतने में सफल रही थी. यानी उन्होंने लगातार 2 मैच में करियर की 2 बेस्ट पारी खेली.

97 पर खोए 4 विकेट

बतौर ओपनर हिमांशु अत्री के साथ उतरे यश दुबे फेल रहे. वे 9 रन बनाकर मुकेश कुमार का शिकार बने. शुभम शर्मा 17 और रजत पाटीदार 7 रन ही बना सके. इसके बाद उतरे कप्तान शलभ श्रीवास्तव भी बड़ी पारी खेलने में नाकाम रहे. वे 10 रन बनाकर शाहबाज अहमद का शिकार हुए. इसके बाद हिमांशु ने 5वें विकेट के लिए अक्षत के साथ 123 रन की बड़ी साझेदारी की. अक्षत 81 गेंद पर 63 रन बनाकर आउट हुए. उनका विकेट आकाश दीप को मिला.

IND vs SA: आशीष नेहरा ने कहा- टीम इंडिया की प्लेइंग-11 में बदलाव की जरूरत नहीं, स्पिनर्स तो…

अभी हिमांशु मंत्री 222 गेंद पर 114 रन बनाकर खेल रहे हैं. 15 चौके लगाए हैं. उनके साथ सारांश जैन 5 रन बनाकर खेल रहे हैं. बंगाल की बात की जाए, तो मुकेश कुमार ने 18 ओवर में 36 रन देकर 2 विकेट लिए हैं. टीम के गेंदबाज मप्र को 300 से पहले रोकना चाहेंगे.

Tags: BCCI, Bengal, Ranji Trophy

Atul Tiwari

Atul Tiwari

Leave a Reply

Your email address will not be published.