भाजपा ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए नड्डा और राजनाथ को सभी दलों से विचार-विमर्श करने की जिम्मेदारी दी

Image Source : ANI
Union Minister Rajnath Singh and BJP Chief JP Nadda

Highlights

  • 18 जुलाई को अगले राष्ट्रपति का चुनाव
  • सभी दलों से विचार विमर्श करेगी बीजेपी
  • जेपी नड्डा-राजनाथ सिंह को अधिकृत किया

President Election: भाजपा ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को सभी दलों से विचार-विमर्श करने के लिए अधिकृत किया है। राष्ट्रपति उम्मीदवार के लिए बीजेपी की तरफ से नड्डा और राजनाथ सिंह सभी दलों से विचार विमर्श कर उनकी राय लेंगे। बीजेपी राष्ट्रपति चुनावों के लिए आम सहमति वाले उम्मीदवार पर एनडीए सहयोगियों, यूपीए-गठबंधन दलों और निर्दलीय उम्मीदवारों के साथ चर्चा करेगी।

18 जुलाई को राष्ट्रपति का चुनाव

राष्ट्रपति उम्मीदवार पर आम सहमति बनाने के लिए दोनों वरिष्ठ नेता विपक्षी दलों के नेताओं के साथ बातचीत करेंगे। इस कदम को चुनाव से पहले केंद्र में सत्ताधारी सरकार द्वारा एक आउटरीच के रूप में देखा जा रहा है। बता दें कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल इसी साल 24 जुलाई को समाप्त हो रहा है। लिहाजा 24 जुलाई से पहले एक नए राष्ट्रपति का चुनाव होना है। 18 जुलाई को भारत के अगले राष्ट्रपति का चुनाव होगा, जिसमें सांसद और विधायक को मिलाकर कुल 4,809 निर्वाचक नए राष्ट्रपति के लिए मतदान करेंगे।

शरद पवार से मिले संजय सिंह

इस बीच सूत्रों ने बताया कि आम आदमी पार्टी (AAP) के नेता संजय सिंह ने आगामी चुनावों पर चर्चा के लिए रविवार को राकांपा प्रमुख शरद पवार से मुलाकात की। गौरतलब है कि 2019 के लोकसभा चुनावों से पहले पवार ने ही AAP और कांग्रेस से भाजपा का मुकाबला करने के लिए दिल्ली में एक साथ खड़े होने का आग्रह किया था। हालांकि, पवार की यह बात नहीं बन पाई थी।

पिछले राष्ट्रपति चुनावों में विपक्ष के आरोप

बताते चलें कि 2017 में पिछले राष्ट्रपति चुनावों के दौरान विपक्षी दलों ने भाजपा पर ऐसा आरोप लगाया था कि उसने पहले ही राम नाथ कोविंद का नाम फाइनल कर लिया था और अंतिम समय में उनसे संपर्क किया था। 2017 के चुनाव में विपक्ष ने मीरा कुमार को समर्थन देकर चुनाव लड़ा था, जो कोविंद से हार गई थीं।

जानकारी के लिए बता दें कि भारत का राष्ट्रपति कार्यपालिका का प्रमुख होता है और सशस्त्र बलों के भी कमांडर-इन-चीफ होते हैं। सभी कार्यकारी निर्णय राष्ट्रपति के नाम पर लिए जाते हैं। इतना ही नहीं प्रधानमंत्री की नियुक्ति भी राष्ट्रपति द्वारा की जाती है, जो प्रधानमंत्री की सलाह पर अन्य मंत्रियों की भी नियुक्ति करता है।

Atul Tiwari

Atul Tiwari

Leave a Reply

Your email address will not be published.